Wednesday, 9 September 2009

मेरी पहली पोस्ट

लगभग २ वर्षों से ब्लागवाणी नियमित रूप से पढ़ती आ रही हूँ । कितनी बार कोशिश की कुछ लिखा भी जाए , पर असफल ।कुछ अज्ञात सा भय घेरे था ।अब इतनी बड़ी लेखिका तो हूँ नहीं कि राईटर'स ब्लाक की शिकार हो जाऊँ ।तब क्या है परेशानी? अंतर्जाल पर खोज बीन करने के उपरांत बात साफ़ हुई कि बहुत ही कॉमन सी समस्या है ये। तो क्या किया जाए? पहले जानते हैं कि आख़िर क्या हमें लिखने से रोकती है?

असफल होने का भय , रचनात्मक न बन पाने का डर, मूर्ख समझे जाने का अनजाना डर, आलोचना का डर आदि वजहों से लेखन क्षेत्र से दूर ही रहने में अपनी भलाई समझते हैं . मान लेते हैं कि बस समय और मेहनत की बर्बादी है. हमसे तो कुछ न होगा, क्या लिखेंगे, कुछ खास विषय भी नहीं है, लिखने की ईच्छा के बावजूद ऐसे बहाने भी ख़ुद को दे डालते हैं । और तो और बहुत- से लोग सफलता से भी डर की वजह से लिख नहीं पाते।

सबसे पहले ज़रूरत है कि पहचाना जाए कि असल में मेरी समस्या क्या है? समस्या का सामना कर ही समस्या से निजात पाया जा सकता है. जहाँ तक आलोचना की बात है तो सबको मालूम है कि दुनिया के सारे महान लेखकों को कभी न कभी आलोचना का शिकार होना ही पड़ा है। अपनी बात दूसरों तक पहुंचाने में कैसी असफलता ? कैसी रचनात्मकता की ज़रूरत है ? कोशिश ही न की जाए तब सफलता की क्या उम्मीद की जा सकती है?आपने हरिवंश राय बच्चन जी की कविता तो पढ़ी ही होगी "कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती" । और फिर मार्गदर्शन के लिए अनुभवी चिट्ठाकारों की कमी भी नहीं ।

तो बस उठाइये कलम मेरा मतलब है कीबोर्ड पर दबाइए उँगलियाँ और हो जाइये शुरू . लेखक के रूप में अपनी उपस्थिति दर्ज कर हिन्दी ब्लॉग जगत को और भी समृद्ध बनायें।


-इस ब्लॉग के माध्यम से आपका ज्यादा समय न लेते हुए जैसा की नाम से ही स्पष्ट है , अपने अनुभवों, विचारों को आपलोगों तक पहुंचाने की कोशिश करूंगी ।

13 comments:

  1. ’बस दो मिनट’जी, हिन्दी चिट्ठाजगत में हार्दिक स्वागत । सफ़लता से न डरने की कोशिश कीजिएगा । सातत्य बना रहे इस कामना के साथ -
    सविनय,
    अफ़लातून

    ReplyDelete
  2. आपने तो पहली पोस्ट ही धांसू लिख मारी ! बस ऐसे ही लिखते रहे !
    ब्लॉगजगत में आपका स्वागत है ! :)

    ReplyDelete
  3. आपका हिन्दी चिट्ठाजगत में हार्दिक स्वागत है. आपके नियमित लेखन के लिए अनेक शुभकामनाऐं.

    एक निवेदन:

    कृप्या वर्ड वेरीफीकेशन हटा लें ताकि टिप्पणी देने में सहूलियत हो. मात्र एक निवेदन है बाकि आपकी इच्छा.

    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:

    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?> इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें..बस हो गया..कितना सरल है न हटाना और उतना ही मुश्किल-इसे भरना!! यकीन मानिये!!.

    ReplyDelete
  4. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा। निरन्तर लिखते रहिए
    ---
    Tech Prevue: तकनीक दृष्टा

    ReplyDelete
  5. हिन्दी ब्लॉगजगत में आपका स्वागत है...लिखती रहें

    हँसते रहो

    ReplyDelete
  6. hausala badhane ke liye aap sabhi ko shukriya.

    @Sameer-Ji maine Word verification ko hata diya hai. sachmuch bahut aasan hai.batane ke liye shukriya.

    ReplyDelete
  7. Swagat hai.........is blog world mein rachnakar ki haisiyat se........

    ReplyDelete
  8. लेखनी प्रभावित करती है.

    ReplyDelete
  9. शुभकामनाऎँ!!!!
    चलिए आपकी बात पर अमल करके देखते हैं..:)

    ReplyDelete
  10. बहुत स्वागत है। पहला क़दम बढ़ा दिया है अब जम के लिखिए।

    ReplyDelete